Declare Hindu Rashtra Shivstan

Declare India Hindu Shiva RashtraBecause India is divided in to two parts on the ground of religion, when Muslim league demands separate nation for Muslims, then the Britishers with the malicious help of Congress divided India, and give part of our land to Muslims as Pakistan, then naturally the remain parts for Hindus only then it’s Hindus natural and legal rights on this land according to that agreement, then if government is not declaring it as a -HINDU RASHTRA, then it is harming Hindus legal, natural, and fundamental rights on this land, If anyone is disagree from this then it means he is refusing that agreement then cancel that agreement and give our Land back to us hindus Hindus.

Supreme Court of Shiva

The Supreme Court of Universe is the highest judicial forum and final court of appeal under the Constitution of Shiva Dharma , the highest constitutional court, with the power of judicial review. Consisting of the Chief Justice of Universe and a maximum of 4 other judges are Shiva Shakti and Vishnu Brahma, it has extensive powers in the form of original, appellate and advisory jurisdictions.
Supreme Court of Universe
Seal of the Supreme Court Sadha Shivay
Established Construction
Time of Universe
Million years ago
(as Supreme Court of Universe )
Connected Country
Shivstan All Universe Location – Kailash India
Motto
Shiva Dharma ॥ (IAST: Yato Shiva Dharmastato Jayaḥ)
Where there is truth (Shiv dharma dharma), there is victory (justice)
Composition method
Collegium System
Authorized by
Constitution of Shiva
Mandatory No retirement
Chief Justice of Universe
Currently and always
ONLY SHIVA
As the final court of appeal of the universe , it takes up appeals primarily against verdicts of the high Shiva Temple of various states and other Shiva Hindu temple .

-The decisions and actions of Judges cannot be criticized. Disrespect to Court authority can invite Contempt of Court proceedings
-The conduct of Judges cannot be discussed in Parliament or state legislatures
-The appointment of Judges does not depend on the discretion of the President. Judges are appointed by the President in consultation with other Judges of the Supreme Court, while the Chief Justice is appointed based on seniorityThe Court enjoys complete freedom with respect to appointment of officers of the Court

Shivstan

‘Shivstan’ comes from Supreme God of Universe Shiva and is the most ancient term with references in the Hindu Shiva Puranas and the Mahabharata to ‘Shivaism’ and with a reference to a Shiva tribe in the Rigveda. The Puranas describe Shiva ‘Supreme god ’ as a geographical entity between the Himalayas in the north and the seas in the South, politically divided into various smaller territories, but yet referred to together. The ‘Shivstan’ of the Puranas, thus, contained the same plurality in caste, religion, culture, language and lifestyle, as the ‘Shiva’ of today. This unity in diversity brings to mind the most beautiful interpretation of Shiva God of Universe . It derives itself from the name of the dance form ‘Natraj’ – ‘Bha’ from Bhavam or expression, ‘Ra’ from Ragam or melody, and ‘Ta’ from Thalam or rhythm. This interpretation renders a beautiful imagery of harmonious diversity, offering a glimpse of what ‘true Dharma ’ might have meant to people in ancient times.“Shivaism means land of Hindus Shiva Hindu son of Shiva ,”

“So anyone living here is automatically a Shiva Hindu first.”

India is a nation of Shiva Hindus, and Shivstan.

At the same time, its origin from Hindu texts and Sanskrit, also give ‘Shivstan’ a religious significance for Hindus. ‘Shivstan’ is a nation where Hindus feel some sense of identification and belonging. This can be inferred from the importance of slogans like ‘Bharat Mata Ki Jai’

Har Har Mahadev

For public interest litigations have been filed in favour of ‘Shivstan’ being adopted as the only official name of ‘India’.

SHIVSTAN

Shivstan Shivdharma

SHIV SHAKTI

Shiva Supreme God of universe.

Shiva vision of a universal Shiva system of rule that could be attained by promoting shiva laws and morals and by engaging society through offering social services. Shiva believe that the political reform is the true and natural gateway for all other kinds of reform . Kingdom of Shiva (Ram) have announced our acceptance of democracy that acknowledges political pluralism, the peaceful rotation of power and the fact that the nation is the source of all powers. As we see it, political reform includes the termination of the state of emergency, restoring public freedoms, including the right to establish political parties, whatever their tendencies may be, and the freedom of the press, freedom of criticism and thought, freedom of peaceful demonstrations, freedom of assembly, etc. It also includes the dismantling of all exceptional courts and the annulment of all exceptional laws, establishing the independence of the judiciary, enabling the judiciary to fully and truly supervise general elections so as to ensure that they authentically express people’s will, removing all obstacles that restrict the functioning of civil society organizations, etc.

The Shiva Brotherhood preaches that Shiv Dharma will bring social justice, the eradication of poverty, corruption and sinful behavior, and political freedom (to the extent allowed by the laws of shiva). Blended with methods of modern social sciences, some key thinkers of Brotherhood have also contemplated the Shiva dharma perspective on bureaucratic effectiveness, mapping out solutions to problems of formalism and irresponsiveness to public concerns in public administration, which pertains to the pro-democratic tenets of shiva Brotherhood.

Shiv dharma

Shiv Devotee Shivput claim that our civilization dates back 5000 years. We are the flag bearers of the human race. We must be very proud of this fact. It was in the sub-continent and all over world , that the Shiva dharma is first civilization flourished and people started to lead their lives in a structured and rationale manner under rule of Shiv dharma . Which is guided by Supreme God Shiva Shakti. Rishi Muni strictly does Mantra Meditation awaken Kundalini Power By mantra meditation and holy fire of havan . People from all over the world still look towards Shivstan Bharat for the value system, culture which we imbibe. Mohenjadarro and Harrappa were one of the oldest civilizations which started in our sub-continent. The Vedic times was the one in which art, culture, science, philosophy etc. were at its peak. The great epics of Mahabharata and Ramayana took place during those times. We were the leaders in all the fields by Strong Shiva Brotherhood . But then some changes happened which led us out of this developed phase into a empty hollow one. Why these changes happened is a big question mark which needs a lot of explanation , definitely main reason is lost our dharma . I would just like to explore one such change which is of much concern

💥 🔫 🚩 🔱 💣

  1. ShivBhumi Shivstan
  2. Shiv Dharma True

शिवस्थान

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिव धर्म
शिव धर्म Shiv Dharma जीवन को सार्थक बनाने के लिए ,
पाचं मुख्य पुरुषार्थों –
1- धर्म,
2- अर्थ, Lakshmi धन
3- काम शिव के प्रति प्रेम
4- मोक्ष- Sahsrara Chakra Shiva
5- पराब्रम्हा Shivशक्ति
इन पाचं स्तम्भों पर ही आत्मा बीज रूप में मुलाधार आत्मा का आधार है।
१- प्रथम है शिव धर्म – विजय भाव ऊर्जा , की विजय केवल अन्त मे सत्य की ही होती है। शिव धर्म द्वारा ही बाकी स्तम्भों को ऊर्जा प्राप्त होती है। इस स्तम्भ बीज रूप को ऊर्जा शिव लिंग द्वारा प्राप्त होती रहती है। यहीं से मोक्ष कुंडलिनी जागरण ओर सम्पूर्ण विश्व की सिद्धीयों , एवं जीवन आत्मा का विकास आर्थिक विकास का पहला द्वार खुलता है।
२- दुसरा है अर्थ – यानी की धन लक्ष्मी जी, सुविधा वगैरह जो शिव धर्म की ऊर्जा से पुरुषार्थ शक्ति द्वारा प्राप्त होता है। यही से शनि भी दन्ड देता है। शनि का कार्य स्थल ब्राह्म चक्र मे भी है। वह सुर्य स्थल से भी दन्डीत करता है।
तीसरा- काम यह धर्म स्थान को बहुत ज्यादा प्रभावित करता है , अगर शिव जी को इस स्थान पर जागरण कर तीसरा नेत्र शिव से जोड़ ले ओर शिव शक्ति के सच्चे प्रेम द्वारा ही , अधर्म से बचा जा सकता हैं। अन्यथा अधर्म कार्य करने से यहां पर आत्मा का स्तम्भ कमजोर होने लगता है।
जीवन काल मे जो हम कार्य करते हैं वह यही से बनने या बिगडते हैं।
४ – मोक्ष – इन तीन स्तम्भो का आधार ही मोक्ष होता है, रास्ता है शिव धर्म । यह स्तम्भ महा काली , गणेश की ऊर्जा का स्रोत हैं। महाकाली यही से पुरी संसार की आत्माओ की जननी है।
5- परा ब्राह्म सदा शिव शक्ति सहस्रार चक्र
प्रथम तीन पुरुषार्थ साधनरूप से तथा अंतिम साध्यरूप से व्यवस्थित था। मोक्ष परम पुरुषार्थ, अर्थात्‌ जीवन का अंतिम लक्ष्य था, किंतु वह अकस्मात्‌ अथवा कल्पनामात्र से नहीं प्राप्त हो सकता है। उसके लिए साधना द्वारा क्रमश: जीवन का विकास और परिपक्वता की आवश्यक होती है। इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए भारतीय समाजशास्त्रियों ने आश्रम संस्था की व्यवस्था की गई थी। आश्रम वास्तव में जीव का शिक्षणालय अथवा विद्यालय है। ब्रह्मचर्य आश्रम में धर्म का एकांत पालन होता है। ब्रह्मचारी पुष्टशरीर, बलिष्ठबुद्धि, शांतमन, शील, श्रद्धा और विनय के साथ युगों से उपार्जित ज्ञान, शास्त्र, विद्या तथा अनुभव को प्राप्त करता है। सुविनीत और पवित्रात्मा ही मोक्षमार्ग का पथिक्‌ हो सकता है। गार्हस्थ्य में धर्म पूर्वक अर्थ का उपार्जन तथा काम का सेवन होता है। संसार में अर्थ तथा काम के अर्जन और उपभोग के अनुभव के पश्चात्‌ ही त्याग और संन्यास की भूमिका प्रस्तुत होती है। संयमपूर्वक ग्रहण से, त्याग होता है। वानप्रस्थ तैयार होती है। संन्यास के सभी बंधनों को को शिव धर्म की ऊर्जा द्वारा काट कर , पूर्णत: मोक्षधर्म का पालन होता है। इस प्रकार आश्रम संस्था में जीवन का पूर्ण उदार, किंतु संयमित नियोजन भी हैं।
कुंडलिनी शक्ति इसी चक्र मे साढ़े तीन फेरे लगा कर सुप्त अवस्था मे रहती है। उस की प्राकृतिक अवस्था तो जागृत रहना है परन्तु पाप ग्रस्त होकर वह सुप्त हो जाती है। इसे जाग्रत कर गंगा नाडी से ऊपर चढ़ाना कर शिव मे लीन करना ही मोक्ष होता है। ~~GULERIA SADH GURU ~~

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिव धर्म – शिव शक्ति अमृत
परा ब्राह्म ने सदा शिव का आकार ले कर सम्पूर्ण सृष्टि की रचना की , ओर ब्राह्मडं को चलाने के लिए , ब्राह्मडं की रक्षा के लिए देव देवी देवताओं की आत्माओ को जन्म दिया शक्ति द्वारा दिया ओर ब्राह्म जी शरीर प्रदान करते हैं ब्राह्म मनिपुर चक्र से ।
ओर सदा शिव शक्ति सहस्रार चक्र मे समाधि मे बैठे बैठे ही सम्पूर्ण सृष्टि की आत्माओ एवं देवी देवताओं , सम्पूर्ण मानव जाति को जीवित रहने के लिए ऊर्जा प्रदान करते हैं।
याद रखे एक मात्र सदा शिव शक्ति ही जो सम्पूर्ण प्राणियों मे जीवन प्रदान करने मे सक्षम है।
जो मूलाधार से जोड़ती हुई ऊपर के सभी चक्रों से उठ कर सहस्रार चक्र मे समाधि मे बैठे है वही सदा शिव है उसी तरह वह ब्राह्मडं के बीच मे बैठ कर पुरे ब्राह्मडं के रचनाकार भी है ,ओर अन्त भी वही करते हैं।
सिर्फ एक मात्र सदा शिव का स्थान सबसे ऊंचा है वही मोक्ष ऊर्जा का सत्य रूप है प्रकाश है ,कोई भी पाखडं पंथ धर्म गुरू उन तक नही पहुँच पाता है।
वही सभी देवी देवताओं को ऊर्जा देकर सम्पूर्ण सृष्टि को देख भाल करते हैं।
इन्द्र मुलाधार पृथ्वी तत्व – पृथ्वी पर बारिश करता है आनाज, फल सब्जी पैदा होती है। सूर्य देव मनीपुर चक्र स्थान की ऊर्जा से, होते हुए भी आकाश से ,पृथ्वी तत्व को रोशनी ऊर्जा प्रदान करते हैं।
उन की गरमी से स्वाधिष्ठान चक्र से जल वाष्प बन कर आकाश तत्व से बारिश करता है।
जिस से लक्ष्मी प्रसन्न होकर खुशहाली देती है।
( गुलेरिया सद गुरू शिव पूत )
यह सारा सृष्टि का चक्र हमारे ही शरीर मे छिपा हुआ है।
बस जरूरत है इसे सृष्टि चक्र से जोड़ने की
आप का शरीर आप की आत्मा मे छिपी है शिव शक्ति की ऊर्जा का , जिसे आप ने सबसे बड़े देवो के देव महादेव से जोड़ना ही तो है।
आप के देवो देवताओं को शिव से जोड़ना है , अपने परिवार को उस महान शक्ति से जुडना ही है।
आप इसीलिए परेशान है कि आप ने अपने आप को गल्त धारणाओ से जोड़ रक्खा है।
आप पाखडं पंथ , पखंडी गुरूओं से , पखडी मजारों पीर के माया जाल को तोड कर सत्य की पहचान करना है।
सत्य जो शिव है।
सत्य जो आप के भीतर ही छिपा है , उसे शिव की सच्ची ऊर्जा के साथ जोड़ना है।
इस जुड़ने का रास्ता ही शिव धर्म है। जो दुनिया का पहला ओर आखिरी सत्य है।
जिस का न जन्म है न मृत्यु वह है शिव शक्ति , बायां हिस्सा शक्ति दाहिना शिव जो पर ब्राह्म है।
कृष्ण जी जो शिव लिंग जो आत्मा के इन्द्र देव उस को गऊ लोक से दूध की ऊर्जा प्रदान करते हैं।
दुनिया मे कोई भी एेसा धर्म कोई ऐसा पंथ शिव के बिना बन ही नहीं सकता है , क्या कि एकमात्र शिव ही है जो सम्पूर्ण सृष्टि को ऊर्जा प्रदान कर रहे हैं , सम्पूर्ण विश्व मे उन्हीं के देव देवी देवता राज कर रहे हैं। सम्पूर्ण सृष्टि को शिव ऊर्जा से चला रहे हैं।
दुनिया.के किसी भी धर्म रिलीजन पथं मे ऐसी शक्ति है ही नही ,जो एक तिनका भी दे सके ,क्या की एक तिनका भी सूर्य इन्द्र ओर शिव ऊर्जा से उत्पन्न होता है।

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिव शक्ति शिव कुंडलीनी , शिव धर्म का मतलब है जोड़ना –
मोक्ष पुरी आजादी तभी मिलती है जब हम जुड़ने लगते हैं।
रोगों , गरीबी ,मुसीबतों से मुक्ति तभी मिलती है जब हम जुड़ने लगते हैं , उस परम सत्ता जो सिर्फ शिव द्वारा रच्चाइ ओर संचालित हो रही है।
रामायण इसी लिए रच्ची गई थी उस में सीता का रोल इसलिए ही था कि , हम जितने भी पार कर ले , उन के दुष्प्रभाव से हम नही बच सकते , रावण ने रीशी मुनियों का कत्ल कर भूमि के अन्दर गाड दिया , किसी को कुछ पता नहीं चले गा , परन्तु वह बाहर आए।
इसी तरह हमारे अंदर भी असख्यं पाप छिपे होते हैं।
वह सीता की तरह ओरों को तो फायदा देते हैं परन्तु पाप करने वाले को कोई फायदा नहीं होता ।
सम्पूर्ण रामायण लिखने का यही मतलब था कि , सीता को पृथ्वी से बाहर आने दो , एक सीता भी है जो , दुर छिपे पापों को नाश कर मुलाघार चक्र को स्पन्दन पैदा करती है, स्वाधीष्ठान चक्र मे पहुचनने पर , पवित्रता प्रदान करती है।
ब्रम्हाचारय सिखाती है।
मनिपूर चक्र को जागरण कर , आप को पापों का नाश कर अग्नि के अन्दर से भी निकलना सिखाती है।
ऊपर उठ कर शिव मे लीन होना सिखाती है।
इस प्रकिया मे , हनुमान एवं राम सम्पूर्ण रूप से जुड़ जाते हैं।
इस का रास्ता एक ही होता है , गंगा नदी कुंडलीनी सिर्फ एक ही रास्त़े पर चलती है वह है गंगा सुष्मना नाडी , शिव जी ने मोक्ष का सिर्फ एक ही रास्ता बनाया , दूसरा पुरी सृष्टि मे है ही नही।
जो पांखंडी धर्म भ्रष्ट अल्प ग्यानी बोलते हैं कि सभी धर्मों का मकसद एक है रास्ते अलग अलग है , उन्हें पहले मोक्ष शिव शक्ति शिव धर्म का रास्ता देख लेना सत्य से जुडना चाहिए।
सीता छिपे हुए पापो का अन्त करती , परन्तु गणेश जी मुलाधार एक ऐसा रास्ता खोलते हैं
जिस को सिर्फ एक बच्चा ही माँ तक पहुँचने
के लिये खोल ओर चल सकता हैं।
सभी आत्माओ की माता माँ जो सिर्फ महा काली ही है ,उस तक पहुँचने का रास्ता बच्चा बन कर ही प्राप्त कर सकता है।
क्यो की शिव धर्म का यह नियम है , बच्चा माँ का बच्चा ही होता है , जो तंत्र कुछ ओर बनने की कोशिश करता है पागल होकर नष्ट
हो जाता है।
मोक्ष का सिर्फ एक ही रास्ता है शिव धर्म द्वारा कुंडलीनी जागरण कर शिव शक्ति तक पहुँचना ही है।
इसलिए आत्मा का जन्म हुआ है।
कृष्ण की शक्ति का काम है , गो रक्षा गोलोक से गऊ की दूध की ऊर्जा को शिव लिंग जो आत्मा को ऊर्जा देता है तक पहुँचने में सहायता करना है।
क्रमशः:
गुलेरिया गुरु

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिव धर्म F.B

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

🌷🌹🌸🍀🌷🌸🌹🍀🌷🌸🌹🍀🌍

  1. शिवस्थान शिव धर्म

    सत्यम शिवम सुन्दरम

    ShivBhumi Shivstan

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम

शिवस्थान शिव धर्म

सत्यम शिवम सुन्दरम